Sunday, December 2, 2012

" पत्नी और कविता -कैसे साथ"

" पत्नी और कविता -कैसे साथ"
दोनो के प्रति है आसक्ती अति;
महानता नहीं,  है मेरी बिपत्ती !
किसी से तो एक नहीं सम्हलती,
हमारे गले तो दो-दो  आ पड़ी  ;D


लाज कैसे बचाये,दिमाग मे न आये,
एक साथ दो नावों की करली सवारी !
पत्नी जरूरत हमारी,कविता मन भाये;
साप-छछुंदर सी हालात हो गई  हमारी  ;)


कहते हम"पत्नी का साया है भारी"
जब सो जाती,तब कविता की बारी ;
पत्नी न देगी तो कौन देगा रोटी ?
पत्नी कहती कविता नहीं देगी रोटी !
;D

आसमान से गिरा,खज़ूर मे लटका !
धोबी का कुत्ता,न घर का-न घाट का |
बीबी और बाहर कविता के बीच :
फंस गये"सजन"दो पाटन के नीच !
:D

जंहा साबुत बचा न कोय,
अब  पछताये क्या होय !
यह दिल की लगी,दिल्लगी हों गई,
शौख-शौखमे अब आदत सी हो गई| :-[

कर सकते,गर आपका उपाय,
तो रहते सुखी,समझ तो आय!
घर मे बीबी और बाहर कविता,
गुलछर्रे उड़ाते, पता न चलता : ::)


छुपाये "कस्तुरी" दिल के अन्दर ;
"मृग"भ्रम मे,असलियत से बेखबर,
खुशबु फ़ैल जाती,छुपाये न छुपती ;
कस्तुरी ही मौत का कारण होती | ???


बात दुजी "जल्दी से सौतन नहीं सुहाती"
घर मे बीबी और बाहर कविता के पति,
महंगाई के ज़माने मे दो को कैसे पाले !
गुलछर्रे भी उड़ायें, पत्नी को भी सम्भाले | ???


बन्धुवर,अब सोच,क्यों करते यह उपाय;
दो-तलवार का डर,फिरभी मन को भाये,
हिम्मत कर,दोनों को साथ-साथ रखते !
पत्नी से प्यार,तभी गहरी रात मे लिखते !! :-*

पत्नी चाहती है रात का वक्त मेरा
कविता के लिये वक्त का बखेड़ा
पत्नी सोने तक रात का वक्त उसका
कविता का पुरा वक्त शेष रात का  ?
  >:(

सजन कुमार मुरारका

No comments:

Post a Comment