Wednesday, March 6, 2013

उलहाना



तेरी आँखों से नफ़रत का उलहाना,हर बाज़ी को डुबो दिया
शराब की थी नहीं इतनी औकात,तुम ने ही मदहोश कर दिया,

सजन

No comments:

Post a Comment