Wednesday, March 6, 2013

ज़लवा



हुश्न के ज़लवे पर इतना न तुम  इतराव !
चमक दो दिन की,वक़्त रहते संभल जाव|

सजन

No comments:

Post a Comment