Wednesday, March 6, 2013

अफ़सोस



कत्तल भी हो जायें,  रजो-गम नहीं,   दीदार तो होता है ,
अफ़सोस किसी भी दौर का नहीं,यादें दीदार की महफूज है ;

सजन

No comments:

Post a Comment