Wednesday, March 6, 2013

पैमाना



हर पैमाने पे ज़िन्दगी बोझ लगे तो मायुसी ही  है ;
ज़िन्दगी अलग से  ख़ुशनुमा लगे तो ज़िन्दगी  है |

सजन

No comments:

Post a Comment