Wednesday, March 6, 2013

यादें



याद को भी दुश्मनी,धधकती रहे हरदम;
कोई भी आंसू न बुझा पाये खुदा कसम |

सजन

No comments:

Post a Comment