Wednesday, March 6, 2013

पर्दा-नशीं



पर्दा-नशीं थे नहीं वह, हुश्न की चर्चा सरे बाजार होती है ;
सरेआम महफील मे उनका जलवा कत्ले-आम मचाता है !

सजन

No comments:

Post a Comment