Wednesday, March 6, 2013

आँखों के नूर



क्या जाने क्या बात हुई,गुँजन सारे,बेज़ूवान हुवे ;
आँखों के नूर,अब उनकी आखों मे ही खटकने लगे !

सजन

No comments:

Post a Comment