Wednesday, March 6, 2013

अल्फाज



तमाम रातें ख़यालों से सजी हुयी छोटी बढ़ी बातें,
दर्द से गर्क़, दहन से सुर्ख, हर अल्फाज सजा के ;

सजन

No comments:

Post a Comment