Sunday, February 17, 2013

कातिल



कातिलाना मुस्कान अधरों मे,हंसी,उनके चहरे पर ,
देख हाल हमारा," खुशी"छुपती नहीं,जल्लादी शान ;

सजन

No comments:

Post a Comment