Monday, February 18, 2013

चाहत



मरना चाहे इस लिये,
उनके दिल से गिर गये ;
जिन्दा हूँ की हमें फिर से,
दिल मे ज़गह मिल जाये !

सजन

No comments:

Post a Comment