Monday, February 18, 2013

जीने का सहारा



तब रात की तन्हाई में याद करता था
अब रात की तन्हाई में याद करते हैं
तब तेरी यादें  मेरे जीने का सहारा था
अब तेरी यादें  मेरे जीने का सहारा हैं

सजन

No comments:

Post a Comment