Sunday, February 17, 2013

ज़ख़्म

खंज़र से लगा ज़ख्म फिर भी भर जाता;
ज़ुबां से लगा ज़ख़्म कभी भर नहीं पाता|

सजन

No comments:

Post a Comment